Home इंदौर जनता से ही जनादेश पाकर बनते है जनप्रतिनिधि- सुरेंद्र सिंह बघेल ...

जनता से ही जनादेश पाकर बनते है जनप्रतिनिधि- सुरेंद्र सिंह बघेल “सदियों पुराना है मेरा हिंदुस्तान- श्रीमती माला ठाकुर”

43728
1283
SHARE


बच्चों को नैतिकता का पाठ पढ़ाना हम बड़ो की जिम्मेदारी- रमेशचन्द्र धाड़ीवाल

कुक्षी।मीडिया जनप्रतिनिधियों को अपने दायित्वों का बोध कराता है एवं समाज व क्षेत्र में हो रही हर छोटी-मोटी घटनाओं और नित नई जानकारियों से हम सबको रूबरू करवाता है। लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ होने के नाते समाचार पत्रों का यह दायित्व है कि, वह अपनी भूमिका का निर्वाह सत्य निष्ठा से करे। उक्त विचार क्षेत्र के विधायक सुरेंद्र सिंह बघेल “हनी” ने स्थानीय दाताहरि वाटिका में आयोजित “जनादेश पर नज़र” साप्ताहिक समाचार पत्र के वार्षिक समारोह में व्यक्त किये।
इससे पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ कनकधाम कोटेश्वर के संत श्री श्री 1008 श्री अयोध्यादास जी ने दीप प्रज्वलन व सरस्वती माँ के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम की औपचारिक शुरुआत की, उनके साथ संत मंडली भी उपस्थित थी।
कार्यक्रम में पधारे संतो एवं अतिथियों व मुख्य वक्ताओं का स्वागत “जनादेश पर नज़र” के प्रधान संपादक सोमेश्वर पाटीदार ने गौरव पुष्प व माल्यार्पण कर किया। वही बालिका जीवांशी पाण्डे व भक्ति सराफ ने तिलक रोली से अतिथियों का स्वागत किया।
कार्यक्रम के मुख्य वक्ता दुर्गावाहिनी की म.प्र./छग संयोजिका व समाजसेवी श्रीमती माला ठाकुर ने “राष्ट्र का नव निर्माण और हमारे दायित्व” विषय पर कहा कि, इस देश की परंपराओं एवं संस्कृति पुरातन काल से चली आ रही है।भले ही इस देश पर सेकड़ो वर्षो तक आतातायियों एवं अंग्रेजो ने राज़ किया हो। किंतु हमारी संस्कृति आज भी सत्य निष्ठ एवं पावनता का आँचल ओढ़े इस समाज को एक सूत्र में बांधे हुए है।
वही वरिष्ठ पत्रकार एवं प्रखर वक़्ता रमेशचन्द्र धाड़ीवाल ने “समाज से तिरोहित होती संस्कृति और हमारी भूमिका” विषय पर कहा कि, भौतिकवाद एवं आधुनिक करण की अंधाधुंध दौड़ में दौड़ते हुए हम अपने परिवार को उतना वक़्त भी नही दे पाते कि, बच्चो को नैतिकता का पाठ पढ़ा सके। स्मार्ट फोन पर गूगल के माध्यम से व्हाइट हाऊस तक कि जानकारी जुटाने वाले बच्चे अपने परिवार के बड़े बुजुर्गों को ठीक से चरण स्पर्श करने के तरीके भी नही जानते। उन्हें संस्कारित बनाना हमारा नैतिक दायित्व बनता है। इस अवसर पर “जनादेश पर नज़र” के नवीनतम अंक का विमोचन भी किया गया।
कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों में अपनी उल्लेखनीय सेवाओ के लिए मुकेश पाटीदार कुक्षी, श्रीमती भावना सोनी इंदौर, अमन मुझाल्दा रामपुरा, कमल पटेल नावादपुरा, गोपाल प्रजापत डही को प्रतीक चिन्ह भेंट कर अतिथियों द्वारा मंच से सम्मानित किया गया।
इसी के साथ कार्यक्रम आयोजक प्रधान संपादक सोमेश्वर पाटीदार ने अतिथि व मुख्य वक्ताओं को प्रतीक चिन्ह भेंट किये।
इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार मदन काबरा, प्रकाश गुप्ता, मनोहर मण्डलोई, अशोक गुप्ता, कृष्णकांत गुप्ता, स्वप्निल शर्मा, राजेन्द्र डालके, अनिल जैन, राजेश मालवी, जयप्रकाश सेन मनावर, दुर्गेश वर्मा डही, प्रकाश जैन, प्रदीप एच पाटीदार निसरपुर, देवेंद्र जैन, अशोक दीक्षित, गोपाल सोनी, पूर्व एसडीएम अम्बाराम पाटीदार, एमपीईबी कार्यपालन यंत्री गणेशप्रसाद साहू, प्राचार्य महेश चतुर्वेदी, के.एस. लोधी, डॉ अतुल अग्रवाल, शैलेन्द्र लड्डा सुसारी, हितेश जैन, श्याम कसेरा, कुंदन मिस्त्री, भूपेंद्र वर्मा, वीरेंद्र त्रिवेदी, शासकीय अधिवक्ता राजेन्द्र गुप्ता, डॉ कमलेश पाटीदार, रूपेश बड़जात्या, डॉ आनंद पाटीदार, पूनम कसेरा, रमेश पिराग लोणी, सतीश निरखे, बीआरसी किशोर बाघेश्वर, रितेश काबरा, निकुंज परसाई, दिलीप ठाकुर, संजय पांडे, चंदू मुकाती, ओपी पाटीदार, महिमाराम पाटीदार, लालजी पटेल, परमेश्वर पाटीदार, प्रवीण पाटीदार, परसराम मुकाती, रवि पूनम जैन, पदमिनी चौहान सहित कर्मचारी-अधिकारी व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
कार्यक्रम का संचालन राजेन्द्र खानविलकर ने किया व आभार हीरालाल हम्मड़ ने माना।

LEAVE A REPLY