Home कुक्षी कमल पटेल प्रतिवर्ष गांव की निर्धन बेटीयों का करवायेंगे विवाह

कमल पटेल प्रतिवर्ष गांव की निर्धन बेटीयों का करवायेंगे विवाह

899
31
SHARE

कृष्ण और सुदामा की मित्रता प्रसंग से हुआ नवादपुरा भागवत महोत्सव का समापन
▪ 21 हजार भक्तजन शामिल हुए विशाल भण्डारे मे
ईफराज कुरैशी द्वारा, कुक्षी । कुक्षी के समिप ग्राम नवादपुरा मे 4 फरवरी से स्व.पेमाजी पटेल की स्मृति मे आयोजित हो रही भागवत कथा महोत्सव मे कथावाचक ज्योतिषाचार्य पंडित श्री सुभाष जी शर्मा दत्तीगाव के मुखारबिंद से प्रवाहित हो रही संगीतमय श्री मद भागवत कथा का शुक्रवार को समापन हो गया। अंतिम दिन कथावाचक पं.सुभाष शर्मा ने सुदामा चरित्र एवं भगवान श्रीकृष्ण के मैत्री प्रसंग सुनाकर श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। कथा का शुभारंभ एक ही गुरु के शिष्य रहे भगवान कृष्ण और सुदामा की मित्रता के प्रसंग से हुआ। गुरुदेव ने बताया कि भगवान की कृपा हर भक्त को समान रूप से मिलती है। भगवान राजा और रंक में कोई भेद नहीं करते। भगवान के बाल सखा सुदामा गरीब थे। लेकिन उनका एक-दूसरे के प्रति गहरा प्रेम और समर्पण था। सुनाई जा रही भागवत कथा के अंतिम चरण का वृतान्त सुनाते हुए गुरुजी ने सुदामा के चरित्र का वर्णन करते हुए सुदामा का द्वारिकाधीश से मिलने जाना, पहरेदारो द्वारा सुदामा को द्वारिका के द्वार पर ही रोक देना और श्रीकृष्ण को सुदामा के आने का पता चलने पर नंगे पैर दोडते हुए बिना पिताम्बर धारण किये अपने परम मित्र सुदामा से मिलने जाना, सुदामा का आतिथ्य का जब वर्णन् किया तो सभी भक्तगण भाव -विभोर हो उठे। सुदामा की मित्रता को निभाकर भगवान ने अपने दीनदयालु नाम को सार्थक किया।कृष्ण सुदामा की कथा के मार्मिक प्रसंग को सुनते श्रद्धालुओं की आंखें नम हो गईं। उन्होंने कहा कि इस कथा से यह संदेश मिलता है कि मित्रता में पद और प्रतिष्ठा आड़े नहीं आना चाहिए। इससे तात्पर्य है कि मित्रता में एक दूसरे का सहयोग अत्यंत महत्वपूर्ण है। ने भक्तजनो मे अपार ईश्वरीय भक्ति का प्रसार करते हुए कथा का समापन किया । कथा पश्चात् सात दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा यज्ञ का भी संत समाज व यजमानो के द्वारा पुर्णाहुति देकर समापन किया। विशाल महाआरती के बाद दोपहर एक बजे से विशाल भण्डारे के आयोजन के साथ सात दिवसीय भागवत् महोत्सव का समापन किया गया । विशाल भण्डारे मे आसपास क्षैत्र के करीब 21 हजार लोगो ने शामिल होकर महाप्रसादी का पुण्य लाभ प्राप्त किया । कथा के समापन अवसर पर राजस्थान सिर्वि समाज के सेणचा गोत्र कुटुम्ब के समस्त धर्मगुरुजनो ने नवादपुरा पहुंच कर कमल पेमाजी पटेल को आशिर्वाद प्रदान किया एवं शानदार आयोजन की बधाई प्रेषित करी । साथ ही महोत्सव को सफलतापुर्वक सम्पन्न कराने मे सराहनीय सहयोग प्रदान करने हेतु जयदीप पटेल, पं.राजु शर्मा, बंटी शर्मा , पवन रणदा, हारुन रशीद खत्री ,महेन्द्र सेणचा ,राजेश सेणचा व समस्त सहयोगीयो को भी भरपुर आशिर्वाद प्रदान किया । कथा समापन अवसर पर कमल पेमाजी पटेल ने उपस्थित गुरुजनो व भक्तजनो के सम्मुख परोपकारी घोषणा भी की जिसमे प्रतिवर्ष नवादपुरा के निर्धन गरीब परिवार की बेटीयो का सामुहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन उनके द्वारा किया जावेगा ।

LEAVE A REPLY