Home कुक्षी धरा पर जब अत्याचार बढ़ता है तब प्रभू का अवतार होता है...

धरा पर जब अत्याचार बढ़ता है तब प्रभू का अवतार होता है – पं. सुभाष शर्मा

420
32
SHARE

● कथा के चौथे दिन जमकर बरसी भागवत ज्ञान गंगा की वर्षा
● कृष्णजन्मोत्सव के भजनो की धुन पर खुब झुमे श्रृद्धालु
ईफराज कुरैशी द्वारा । कुक्षी, कुक्षी के समिप ग्राम नवादपुरा मे 4 फरवरी से स्व.पेमाजी पटेल की स्मृति मे आयोजित हुई भागवत कथा महोत्सव के चौथे दिन कथावाचक ज्योतिषाचार्य पंडित श्री सुभाष जी शर्मा दत्तीगाव के मुखारबिंद से प्रवाहित हो रही संगीतमय श्री मद भागवत कथा मे आज के प्रसंग में भगवान श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव का विस्तार से वर्णन किया संत श्री ने प्रवचन करते हुए कहा कि परमात्मा की भक्ति में ही वास्तविक रस एवं आनंद छिपा है। इस आध्यात्मिक आनंद को पाने वालों को परमानंद एवं ब्रम्हानंद का आभास होता है । भगवान श्रीकृष्ण के आधी रात को जन्मोत्सव की जानकारी सुबह मिलने पर समूचे ब्रज में खुशी मनाते हुए घर-घर बधाई गीत गाए गए । खुशी से सराबोर लोग अपने घरों से बाहर निकल आए और एक-दूसरे को दूध-दही के साथ हल्दी-तिलक, रंग-गुलाल लगाकर कृष्ण जन्मोत्सव की खुशियां बांटी उत्साहित ब्रजवासी नंद के आनंद भयो जय कन्हैयालाल के जयघोष के साथ बधाई देने में व्यस्त रहे । नंद-यशोदा के यहां 80-85 वर्ष में नंदलाला होने की खुशी समूचे ब्रज में मिलकर मनाई गई। जब-जब इस धरती पर अन्याय अत्याचार बढ़ता है तब प्रभू का अवतार होता है । प्रभू जैसा कोई दयालू नहीं है उनकी उदारता यह है कि बिना कुछ लिए ही नि:स्वार्थ भक्ति से प्रसन्न हो जाते हैं । भगवान कृष्ण के जन्मोत्सव से जुड़ी हुई रोचक जानकारीयो से कथा वाचक पं.सुभाष शर्मा जी ने भक्तजनो को रसपान कराया । भागवत मे कृष्ण जन्मोत्सव के दौरान दोपहर में श्री कृष्ण जन्मोत्सव बड़ी धूमधाम के साथ मनाया गया। पांडाल में जैसे ही कृष्ण रुपी बालक टोकरी में बैठा कर लाया गया वेसे ही पूरा पांडाल जय श्री कृष्ण के जयकारों से पांडाल झूम उठा कृष्ण रुपी बालक को पं.सुभाष शर्मा जी ने गोद में लेकर माखन मिश्री खिलाई और महा आरती उतारी गई । भागवत कथा के चौथे दिन भक्तजनो का विशाल जनसैलाब उमड़ा । कथावाचक पं.सुभाष शर्मा जी महाराज द्वारा कथा वाचन के दौरान कृष्णजन्मोत्सव भजनों की प्रस्तुति ने श्रृद्धालुओं को भक्ति में तल्लीन होकर झूमने पर मजबूर कर दिया। श्री संत के श्री मुख से भजनों की सुरीली वाणी को सुनकर श्रृद्धालु मंच के समीप आकर संतश्री का अभिवादन करते हुए भजनों पर झूमते रहे और कई श्रृद्धालु अपने स्थान पर ही भजनों का आनन्द लेते रहे। सुमधुर कृष्ण भजन की धुन पर कमल पटेल, पं.राजु शर्मा, पवन रणदा, बंटी शर्मा के साथ सभी यजमान खुब झुमे ।

LEAVE A REPLY