Home इंदौर विश्व हिंदू परिषद धार जिले में सीमित ? रबर स्टम्प मिलते है...

विश्व हिंदू परिषद धार जिले में सीमित ? रबर स्टम्प मिलते है क्या ? : धार जिले के डही से विहिप के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मनावर से राष्ट्रीय संयोजक *कुर्सी के हवसखोरों ने सत्ता प्राप्ति का साधन मात्र बना दिया* “देश भक्ति व देशद्रोही का प्रमाण-पत्र देने वाले खुद के नीचे भी झांके”

153
0
SHARE


✍🏽सोमेश्वर पाटीदार-प्रधान संपादक👁
*www.janadeshparnazar.com*
*📞9589123578*

*✒खड़ी कलम…*
“”””””””””””””””‘”‘””””””””””

*हे राम…* तेरे नाम से दुकानदारी सजाने वाले संगठन कहाँ से कहाँ किस मुकाम पर आ गए। इतनी ऊंचाई पर पहुँच गए कि, अब तो राम भी नही दिखाई दे रहा है। परन्तु खुद के गिरेबां में झांके तो इतने गिरे हुए नज़र आएंगे कि, जिस हिंदुत्व का तमगा लगा कर चल रहे उसके लायक ही नही यह सत्ता के हवसखोर… अयोध्या में राम मंदिर बनाने की नोटंकी करने वाले लोगों की बात करें तो जो समझना चाहे उसके पैरों तले जमीन खिसक जाए, पर हाँ… जो समझना ही न चाहे ऐसे बन्धवों के नही। आरएसएस व उसकी तमाम फ़रदले राम मंदिर के निर्माण सहित हिन्दू हित की बात बरसों से गला फाड़कर चिल्लाते हुए करते आये है। सत्ता से बरसों दूर रहने तक तो हिंदुत्व व राम सर्वोपरि थे, और अब स्वार्थ सिद्ध होने के बाद सत्ता की मलाई चाटते-चाटते हिंदुत्व व राम को परे कर दिया। आदर्श-मूल्यों- संस्कारों का तड़का लगाकर भक़्तों को चटाने वाले सत्ता के रंगीन गलियारों में खो गए। विपक्ष में रहते हुए राम मंदिर के लिए जांघ ठोकने वालो की जांघो पर अब सत्ता का तेल चढ़ गया। अच्छा हुआ…अवाम ने एक बार पूर्णबहुमत सोप दिया। विपक्ष में रहते इनके बोल और आज सत्ता में होने पर इनके बोल… कैसे हिन्दू है यह साबित कर गया। हिन्दू ही नही पूरे भारतीय समाज को खोपड़ी में बिठा लेना चाहिए कि, आरएसएस व उसकी विहिप जैसी फरदले सत्ता प्राप्ति का सिर्फ माध्यम है। जिसका चाटुकार व अवसरवादी लोग बढ़-चढ़ कर स्वाभिमान को खूंटी पर टांग फायदा उठाते है। हिंदुत्व के ठेकेदारों से कभी यह पूछा था कि, भाजपा के मुख्तार अब्बास नकवी व शाहनवाज़ का ससुराल कहा है ? या फिर भाजपा के मुरलीमनोहर जोशी व विहिप के प्रमुख रहे स्व. अशोक सिंघल से पूछा था कि, इनकी लड़कियों का विवाह/निकाह किससे किया ? बंधवा गिरी व अंधभक्ति के बदले थोड़ा सा स्वविवेक का उपयोग किया होता तो आज सत्ता की हवस का शिकार नही होते। जात-पात व धर्म, क्षेत्रवाद के जहर से फुट डालकर सत्ता हासिल करने वाले कहां अंग्रेज़ो से कम है ? जिन्होंने फुट डालकर राज़ किया था। गाय पर गन्दी राजनीति करने वालो पर भक्त जरा यह तो पता करें कि, कत्ल खानों की इजाज़त कोनसी सरकार दे रही है। हराम का धन कूटने वाले गौ भक्ति के नाम पर गाय से भरे ट्रक रोककर खुद की जेब भरना चाहते और न जमे मामला तो गौ प्रेम में थाने चलो हंगामा करेंगे। गाय की इतनी ही चिंता है तो एक-एक गाय प्रति भक्त भी अपने घर मे रखे तो लावारिस घूम रही गाये न बचेगी व गौ शाला की भी आवश्यकता न पड़ेगी। विगत माह ही आरएसएस की फ़रदल विहिप व बजरंग दल में एक विचारणीय घटनाक्रम हुआ है, जिसमें विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में म.प्र. के धार जिले के डही निवासी विष्णु सदाशिव कोकजे को बनाया गया। जिसके पश्चात गत दिनों धार जिले के ही मनावर तहसील के ग्राम जाजमखेड़ी के सोहन सोलंकी को विहिप की बैठक में बजरंग दल का राष्ट्रीय संयोजक बना दिया गया। कोकजे पूर्व राज्यपाल व हाईकोर्ट के न्यायाधीश रहते सभी जाति व धर्म के लोगो के साथ न्याय करने वाले पद पर बैठे थे। लेकिन वहीं कोकजे आज सिर्फ हिन्दू समाज का प्रतिनिधित्व कर रहे। इस पर भी विचार किया जाना चाहिए। साथ ही विचारणीय खासतौर पर यह भी है कि, सत्ताधारियों के इन संगठनों में राष्ट्रीय प्रमुख धार जिले से ही क्यों ? क्या राष्ट्रीय नेतृत्व को यहाँ रबर स्टम्प मिल जाते है या इन संगठनों से बंधे ज्यादा लोग यही पाए जाते ? कहीं धार जिले में ही तो यह सीमित नही ? कोकजे को पद पर बिठाने के पीछे कल तक जिसकी दहाड़ से शासन-प्रशासन की सांसें फूल जाती थी ऐसे प्रवीण तोगड़िया को घर बिठाना भी तो कारण नही ? तोगड़िया भी कल तक भक़्तों के दिलो में बसता था आज क्या हुआ ? एक राष्ट्रीय हस्ती ने पिछले दिनों ही 2 गुंडों का राज़ बताया था। निश्चित ही यह बदलाव भी सत्ता के इशारों पर हो रहे होंगे, क्योंकि कल तक जितने भाजपा व हिन्दू संगठनों के नेता प्रेरणादायक थे आज उन्ही को सत्ता के ख़ातिर घर बिठा दिया गया। पर बड़ी बात यह है कि, 2 गुंडे व उनके चाटुकार जो करें वह सही, गर विरोध किया तो देशद्रोही… कहना चाहूंगा मुगालते न पालें, समय स्थिर नही चलायमान है। आज तुम कल कोई और होगा। फिर से सभी से निवेदन लेख पर विचार करें और भक्त भड़कने के बजाय सच का सामना करें। विपक्षी दल भी करनी का भुगत रहे और तुम भी तैयार रहो… में भी हिन्दू हूँ… इससे पहले इंसान व भारतीय हूँ….

LEAVE A REPLY