Home इंदौर कानून के दुरुपयोग को लेकर सर्व सवर्ण समाज ने निकाली रैली, दिया...

कानून के दुरुपयोग को लेकर सर्व सवर्ण समाज ने निकाली रैली, दिया ज्ञापन : काले कानून के खिलाफ सर्व सवर्ण समाज हुआ एकजुट , झूठे प्रकरण वापस लेने की मांग

9246
836
SHARE

क़ुक्षी। विगत 2 मार्च की संध्या 7:30 बजे नगर के सभ्रांत मोदी परिवार के शक्ति पिता सुभाष मोदी अपनी पत्नी एवम 1वर्षीय बालिका के साथ निजी वाहन mp 09 cv 4196 में वैवाहिक कार्यक्रम से वापस लौट रहे थे नगर के साई सिटी के समक्ष चंपालाल पिता गुलाब सिंह मौर्य क़ुक्षी (अनुसूचित जनजाति) ने वाहन mp11cc4466 से नशे में तेज गति से शक्ति के वाहन को टक्कर मार दी जिससे शक्ति की पत्नी और पुत्री को गंभीर चोटें आयी घटनास्थल से शक्ति सीधे घायल पत्नी और पुत्री को लेकर अस्पताल पहुचा। प्रारंभिक उपचार के पश्चात शक्ति के पिता सुभाष मोदी आगामी उपचार के लिए अपनी बहू को बड़वानी के लिए रवाना हुए। वही शक्ति FIR दर्ज करवाने पुलिस थाना क़ुक्षी पहुचा किंतु अभियुक्त चंपालाल अनुसूचित जनजाति होने पर शक्ति की FIR लिखने में आनाकानी करते रहे पुलिस अधिकारियों ने भारी मन्नतों के बाद रात्रि 11:30 को FIR दर्ज की।

घटना के पश्चात FIR लिखे जाने तक चंपालाल पुलिस पर दबाव बनाकर, जो चोटे उसे दुर्घटना में लगी उसे मारपीट की दर्शा कर अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम के अंतर्गत FIR दर्ज करने का दबाव और शक्ति मोदी और उसके परिजनो एवम मित्रों के खिलाफ प्रकरण दर्ज करने का दबाव बनाता रहा। क़ुक्षी स्वास्थ्य केंद्र पर चंपालाल एवं साथी मगन के रक्त परीक्षण में अल्कोहल पाया गया। चंपालाल ओर अन्य साथियों के दबाव में पुलिस क़ुक्षी ने शक्ति मोदी उसके परिजनों और मित्रो के खिलाफ अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम में प्रकरण दर्ज किए।
सम्पूर्ण घटनाक्रम में अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम का दुरुपयोग कर शक्ति मोदी और उसके परिजनों और मित्रो पर दर्ज किए प्रकरणों के खिलाफ आज सम्पूर्ण सवर्ण समाज ने नगर के जवाहर चौक से एक मौन रैली नगर के प्रमुख मार्ग बढ़पुरा, सिनेमा चौराहा,विजय स्तम्भ चौराहा, अलीराजपुर रोड, होकर अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय पहुची।सेकड़ो की संख्या में सर्व सवर्ण समाज के प्रतिनिधियों द्वारा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री आर एस बालोदिया के समक्ष घटना का उल्लेख कर ज्ञापन दिया। सवर्ण समाज द्वारा ज्ञापन में मांग की गई कि, उल्लेखित अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम में घटना की सेवानिवृत्त न्यायाधीशों की पैनल बनाकर कानून में संशोधन किया जाए। प्रकरणों की निष्पक्ष जांच के पश्चात ही FIR दर्ज की जाए व निर्दोष शक्ति मोदी उसके परिजनों एवम मित्रो पर झूठे प्रकरण वापस किए जाए।

LEAVE A REPLY