Home इंदौर अपराधियों पर अपना ख़ौफ़ रखने वाले जांबाज़ थानाप्रभारी को क्रिकेट ऑनलाइन सट्टे...

अपराधियों पर अपना ख़ौफ़ रखने वाले जांबाज़ थानाप्रभारी को क्रिकेट ऑनलाइन सट्टे पर भी नज़र रखनी होगी ? : खुलेआम सट्टा तो नही दिखाई दे रहा पर, कही ऑनलाइन तो वारे-न्यारे नही हो रहे ? “डेढ़ दर्जन अपराधियों के साथ लाखों नगद जब्ती की कार्यवाही कुक्षी क्षेत्र में पहले हो चुकी”

4350
955
SHARE

✍🏽सोमेश्वर पाटीदार-प्रधान संपादक👁
📞…9589123578

खड़ी कलम

धार जिले के कुक्षी में वैसे तो थाना प्रभारी सीबी सिंह के होते हुए कईं अपराधों पर लगाम लगी, जिसकी जनचर्चा भी है। जुआ-सट्टा की भी बात करें तो खुलेआम फिलहाल दिखाई नही दे रहा है। लेकिन क्रिकेट एक ऐसा खेल है, जिसे खेल भावना से खेला जाना चाहिए। परन्तु बहुत से धंधेबाजों ने इसे भावनाओं से खेलते हुए निकम्मेपन से भी धन इकट्ठा करने का साधन बना रखा है।

कुक्षी क्षेत्र में भी पूर्व में बड़ी कार्यवाही हो चुकी जिसमे 17 लोगो के खिलाफ कार्यवाही करते हुए इनसे 11 लाख के लगभग की राशि व सामान जब्त किया था। इसलिए ध्यानाकर्षण करवाने में आता है कि, पिछली कार्यवाही में पकड़ाए लोगो या उस वक़्त छूटे लोग व बाद में नए इस लाइन में अगर जुड़े हो उन पर नज़रे जमाये रखनी होगी। ताकि इस पर आगामी दिनों में पुलिस को सफलता मिल सके।

*क्रिकेट सट्टा खेलने का तरीका*

क्रिकेट का सट्टा किस तरह खेला जाता है, और उसका का क्या तरीका है इस के बारे में हम बात करें तो, सम्बन्धित आर्टिकलो से ज्ञात होता है कि, इंडिया में क्रिकेट का सट्टा अवैध है। व खेलने वाले और खिलाने वाले दो नो को जेल हो सकती है। क्रिकेट के सट्टे आम तोर पर कई तरीके से खेला जा सकता है। जिनमें से प्रमुख तरीको में सेसन का सट्टा खेलने वालो के लिए मोत की सीडी जैसा है।
प्रत्येक बोल पर भी सट्टा खेले जाने की खबर बताई जा रही है। इंदौर संभाग में कुक्षी भी इसके गढ़ के रूप में चर्चित है। यहां के सफेदपोश बुकी दिखावे के लिए तो बड़े-बड़े शोरूम डालकर बैठे है। लेकिन काली कमाई को सफेद करने के लिए भी विकल्प खोल रखे है।

पूर्व में विभिन्न नामों से सट्टे की बुक चलती थी। ज्यादा सख्ती पर ये लोग पुलिस से बचने के लिए लेपटॉप व मोबाइल लेकर भिन्न-भिन्न से खेलते हुए स्थानों को बदलते रहते है। यहां तक कि, चलते वाहन से भी व्यापार चलाने का तरीका अपनाते है ?

विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार हर बात खोल कर रख दी गई। जरूरत है जिम्मेदारों को इस और कड़ी नजर बनाकर कार्यवाही करने की।

LEAVE A REPLY