Home इंदौर उम्मीद-14… एसडीएम कुक्षी : एफ़ टू रील में तो देखी-दिखाई ग्राम लोहारी...

उम्मीद-14… एसडीएम कुक्षी : एफ़ टू रील में तो देखी-दिखाई ग्राम लोहारी में रियल टॉयलेट भी देख लो_*_भृष्ट भाजपा जिलाध्यक्ष राज बर्फा के गृह ग्राम में खुल गई पोल…सरकार बजा रही विकास का ढोल… *ग्रामीणों की शिकायत पर ज़नाब गौर फरमाएं… इसकी भी तस्दीक करके दिखाए…* “टॉयलेट एक प्रेम कथा… भृष्टाचार एक ग्रामीणों की व्यथा…”

558
30
SHARE

सोमेश्वर पाटीदार-प्रधान संपादक👁

📞9589123578

*✒…खड़ी कलम…*
“””””””””””””””””””””””””””””
*टॉयलेट* एक प्रेम कथा फ़िल्म दो दिन पूर्व ही एफ़ टू निजी मल्टीप्लेक्स कुक्षी में एसडीएम रिशव गुप्ता द्वारा महिला सरपंच,सचिव, स्वछता प्रेरकों को दिखाई व इस अवसर पर जनप्रतिनिधि, अधिकारी सहित एसडीएम खुद ने भी देखी। कुक्षी व डही तहसील के लगभग इन 100 से अधिक लोगों को विशेष शो के दौरान एक साथ टॉयलेट ले जाने का उद्देश्य खुले में शौच को लेकर जागरूक करने हेतु महिलाएं शर्म न करते हुए बिना हिचकें लोगो के सामने अपनी बात रख जागरूक करें। निश्चितरूप से यह सराहनीय कदम है एसडीएम रिशव गुप्ता का, लेकिन इससे अतिरिक्त दूसरे पहलू पर भी गौर फरमाने की आवश्यकता है ज़नाब… कहना चाहूंगा कि, “टॉयलेट एक प्रेम कथा” तो देखी, जरा ग्राम पंचायत लोहारी की “भ्रष्टाचार एक ग्रामीणों की व्यथा” भी तो देख लो ? यहां पर शिकायतें है कि, शौचालय की राशि नही आई तो कही आई है तो धरातल पर नही बनी है। इसी के साथ कई जनकल्याणकारी योजनाओं को कागजी घोड़े दौड़ाकर इति श्री की जाती है। गत 15 अगस्त को विशेष ग्राम सभा का अयोजन किया गया था जिसमें किन-किन कार्यो का अनुमोदन हुआ उसकी जानकारी ग्रामीणों व पंचायत के ही निर्वाचित पंचों को नही होती इस विषयक भी शिकायत सामने आई। साथ ही निर्माण कार्य किस मद से कहा हुआ इसकी भी जानकारी व सूचना पटल पर नही दिखता। इसी बात को लेकर उपसरपंच, पंच, ग्रामीणों ने विभिन्न योजनाओं के प्रस्ताव-ठहराव को निरस्त करने सम्बंधित उचित कार्यवाही की जिम्मेदारों को गुहार लगाई जिसमें आप ज़नाब रिशव गुप्ता भी है। यह अनियमितता या भृष्टाचार का नया मामला नही है ज़नाब, यहां पर पूर्व सरपंच रहते हुए वर्तमान भाजपा जिला अध्यक्ष डॉ राज बर्फा ने भृष्टाचार के आयाम स्थापित कर एक अलग ही कीर्तिमान रचा है। जिसको आगे बढ़ाते हुए शायद अब संरक्षण में इनके कहना न चाहूंगा कि, वर्तमान में भी शिकायतों, जनचर्चा, समाचार-पत्रों से लगता है, जारी है। यह तो जिला अध्यक्ष ही है, बड़ा प्रश्नचिन्ह तो स्वच्छता का संदेश देने वालो पर तब लगता है, जब भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह म.प्र. के दौरे पर थे और आदिवासी कमल उइके के निवास पर भोजन किया। जिसके निवास पर ही शौचालय नही होने से स्वच्छता की पोल खुल गई थी। जबकि भोपाल जिला ओडीएफ घोषित है। इसी लिए एसडीएम रिशव गुप्ता से उम्मीद करता हूँ कि, रील में टॉयलेट देखी अब जरा रियल में भी देखे व ग्रामीणों की विभिन्न समस्या वाली शिकायतों को तस्दीक करें… ओके चलते है फिर मिलेंगे नई उम्मीद के साथ…

LEAVE A REPLY