Home इंदौर उम्मीद-12…एसडीएम कुक्षी : एसडीएम कार्यालय तो संभल नही रहा और रिशव गुप्ता...

उम्मीद-12…एसडीएम कुक्षी : एसडीएम कार्यालय तो संभल नही रहा और रिशव गुप्ता ने न.पं. प्रशासक का भी लिया चार्ज — नगर में अनेक अधूरे कार्य व गंदगी के साम्राज्य से मुक्ति दोगे ? “गायत्री सरोवर का सौन्दर्यीकरण,ड्रेनेज लाईन और गवली मोहल्ले में दफनाए गए मार्ग खोलोगे? “

141
157
SHARE

✍🏽सोमेश्वर पाटीदार-प्रधान संपादक👁

“जनादेश पर नज़र” इंदौर (म.प्र.)
📞…9589123578

इंदौर/कुक्षी। सुनो…सुनो…सुनो… कुक्षी नगर की निवासी आम से लेकर खास जनता… अब नगर पंचायत अध्यक्ष का कार्यकाल खत्म होने से प्रशासक के रूप में विगत दिवस एसडीएम ही नही आईएएस अधिकारी रिशव गुप्ता ने पदभार ग्रहण कर लिया है। इनकी खास विशेषता यह है कि,अब तक इनसे की गई जनहित की उम्मीदों में से अब तक एक भी उम्मीद पर खरे नही उतरे… बल्कि ठीक विपरीत जाकर जेल भेजने की धोंस व कानून के मनमाने तरीके से उपयोग कर उसका दुरुपयोग करने में माहिर है। यह नो-सिखिये जैसा परिचय देकर आईएएस की डिग्री की गर्मी दिखाते रहते है। हालांकि की हमारी उम्मीदों के भार से या डूब क्षेत्र सहित विभिन्न मामलों में जनता के बीच से कही न कही इनकी गर्मी को छाट दिया गया है। कहना न चाहूंगा कि, जिस तरह खेतो में नए बेल को जोतने पर ही वह सीधे नही चलता बे-लगाम होता है ओर उसको लकड़ी-आर भी लगानी पड़ती ओर पुचकारना भी पड़ता है। ठीक यही हाल कुक्षी औऱ धार का है। इनको डिग्रियां तो दे दी पर, अब जिम्मेदारियां भी मिली तो हम जनता के लोग ही कभी कलम रूपी तलवार से तो कभी जनता की ललकार ओर पुचकार से सीधे लाइन पर लाएंगे। तो भाई सुनिए रिशव गुप्ता… अगली उम्मीद यह है कि, पिछली जितनी भी उम्मीदे है उन पर खरे उतर जाओ… जैसे कि,उम्मीदों में एबीवीपी का तिरंगा विवाद हो या अधूरे अतिक्रमण की बात हो… गायत्री सरोवर के सौंदर्यीकरण का कार्य हो या ड्रेनेज की अधूरी पड़ी झंझट हो… गवली मोहल्ले में बायपास की ओर पुराने रोड़ को जो गंदगी से दफनाने का घटिया काज हो या नगर में सड़को पर गड्ढे ओर नालों में गंदगी का साम्राज्य हो… इसी के साथ कई उम्मीदे अब नगर पंचायत में भी तुम्हारे प्रभार के कारण बनती है। यहां का प्रभार तो अब लिया। लेकिन, यहाँ की समस्याओं से कई बार जनता ने आपको अवगत करवाया भी पर खोपड़ी पर फिर भी जूं तक न रेंगी, फिर भी उम्मीद करेंगे, क्योंकि, आप तो हमारे एसडीएम हो, आपसे नही तो उम्मीद किससे करें… इन्हीं उम्मीदों के साथ चलते है फिर मिलेंगे अगली उम्मीद के साथ…

LEAVE A REPLY