Home इंदौर किसान सम्मेलन के रूप में होगा पाटीदार समाज का प्रांतीय अधिवेशन :...

किसान सम्मेलन के रूप में होगा पाटीदार समाज का प्रांतीय अधिवेशन : मंदसौर कांड: शासन-प्रशासन ने झूठे प्रकरण थोप कर समाज को बदनाम किया, बर्दास्त नही_ _हार्दिक पटेल,पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आने की संभावना…

6070
865
SHARE

भोपाल।म.प्र. की भाजपानीत सरकार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद को किसान पूत कहते है। लेकिन इनकी सच्चाई मंदसौर में शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे किसानों पर गोलियां चलवाने से सामने आ गई। सरकार की ना-लायकी व गैर-जिम्मेदारी पूर्ण हरकतों से 7 किसानों को असमय जान गवानी पड़ी। इनमें चार किसान पाटीदार समाज से ताल्लुक रखते है। इतना ही नही सरकार खुद के बचाव के लिए कभी किसान नही होना या कभी तस्कर या हिंसा फैलाने वाले आरोप मढ़ते हुए किसानों व पाटीदार समाज को बदनाम करने का दुस्साहस करते हुए कई झूठे प्रकरण थोप कर गांव-गांव पुलिस प्रशासन के माध्यम से प्रताड़ित कर रही है। इसी तारतम्य में गत दिवस पाटीदार समाज छात्रावास नीमच में मंदसौर,गरोठ व नीमच के संगठन पदाधिकारियों की बैठक प्रांतीय अध्यक्ष महेंद्र पाटीदार की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमे किसान आंदोलन से हुई समाज की विकट स्थिति व पूरे प्रदेश में समाज के किसानों पर सत्ता के दबाव में पुलिस द्वारा झूठे प्रकरण दर्ज करने व अभी भी पुलिस द्वारा समाज के किसानों को प्रताड़ित किया जा रहा है। इस विषय पर जिलाध्यक्ष महेश पाटीदार, महिला संगठन अध्यक्ष श्रीमती सुनीता पाटीदार सहित पदाधिकारियों ने प्रकाश डाला व शासन-प्रशासन द्वारा प्रताड़ना पर आक्रोश व्यक्त करते हुए आर-पार की लड़ाई का निर्णय लेने व पटेल नवनिर्माण सेना व पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को बुलाने का आह्वान प्रांतीय अध्यक्ष से किया। बैठक को पटेल नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय महामंत्री अखिलेश कटियार व प्रदेश अध्यक्ष हिम्मत सिंह गुर्जर ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर पूर्व प्रांतीय अध्यक्ष शांतिलाल मांडा ने प्रस्ताव रखा कि, अविलम्ब मंदसौर जिले में प्रांतीय अधिवेशन बुलाना चाहिए व उसकी कार्ययोजना बताई। हजार की संख्या में उपस्थित समाजजनों ने करतल ध्वनि से समर्थन करते हुए दिनांक 16 जुलाई 2017 को ग्राम नारायणगढ़ तह. मल्हारगढ़ जिला मंदसौर में प्रांताध्यक्ष महेंद्र पाटीदार की अध्यक्षता में दशम प्रांतीय अधिवेशन को किसान सम्मेलन के रूप में आयोजित करने का निर्णय लिया। सम्मेलन में पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवगौड़ा, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व हार्दिक पटेल सहित देश व प्रदेश के पाटीदार समाज के मंत्री, सांसद व विधायको को बुलाने का निर्णय पारित किया। निश्चित रूप से पाटीदार समाज व किसानों की उपेक्षा करने वाले सत्ताधीशो को आगामी चुनावों में आक्रोश का सामना करना पड़ेगा। ऐसा लग रहा किसानों की एकजुटता से अब सत्ता सिंहासन को डोलते हुए उखड़ने का वक़्त करीब आ गया।

LEAVE A REPLY