Home इंदौर किसानों की मौत का सौदा करने वाली हत्यारी शिव सरकार : करोड़ो...

किसानों की मौत का सौदा करने वाली हत्यारी शिव सरकार : करोड़ो तू रख शिवराज , तेरी गर्दन सोप? @इंटरनेट सेवा बन्द कर लोकतंत्र का गला घोंट रही सरकार@

10918
219
SHARE

इंदौर।क्यों न कहूँ… म.प्र. की शिवराज सिंह चौहान सरकार को हत्यारी? ये कपटी अब, जब मंदसौर में लगातार आंदोलन कर रहे 6 किसान भाइयों पर गोली बरसा कर मौत के घाट उतार दिया, तब घड़ियाली आंसू बहाकर 1 करोड़ में एक किसान के अनुसार मौत का सौदा कर रहा ओर लाखो में घायलों पर मलहम लगाने को दे रहा। इतने दिनों से आंदोलन जारी है सीधे किसानों से बात करने के बजाय खुद के तलवे चाटने वाले गद्दारों से बन्द कमरे में बात क्यों कि? में सवाल करता हूँ उस पाखंडी शिवराज ओर उसके तलवे चाटने वाले गद्दारों से कि, क्या जितना मलहम लगाने को ओर मौत के बदले में करोड़ो देने की घोषणा की उतना ही धन खुद शिवराज रख कर, खुद की गर्दन सौपेगा? में सवाल करता हूँ उन तलवे चाटने वाले हरामखोरो से किसान आंदोलन करें तो दूध, सब्जी और कृषि उपज सहित सब तरफ नुकसान हो रहा बोलते हुए कानून की दुहाई देते हो, कोसते हो अन्नदाता को और जब विभिन्न आंदोलनों में चक्का-जाम आंदोलन होकर राष्ट्रीय संपत्ति का नुकसान होता था तब कोनसे बिल में छुपे थे? तब मुँह में क्या आकाओं ने नोट के बंडल ठूस दिए थे?इतना सब कुछ होने के बाद बौखलाई…घबराई… सरकार ने दमनकारी नीति का परिचय देते हुए किसानों की हत्या के बाद कोई अपनी बात न रख सकें एक दूसरे से हकीकत को बयां न कर सकें इसलिए इंटरनेट सेवा को ही म.प्र.में बन्द करवा दिया। क्या यह लोकतंत्र का गला घोंटने का दुस्साहस नही? अब तो पाखंड उजागर हो गया प्रदेश में शिवराज तो, केंद्र में बैठा जुमलेबाज़ मोदी धंधेबाजों ओर सौदागरों के हाथों खेल रहे। सावधान… हो जाये खुद को किसान पुत्र कहने वाला दोगला शिवराज ओर केंद्र में बैठा इन सब दोगलो का सरदार नरेंद्र मोदी… तुम्हारे राज़ में धंधेबाज व चाटुकार मालामाल ओर जनसामान्य बदहाल…लगातार कृषि कर्मण्य अवार्ड लेकर ढिंढोरा पीटने वालो आकड़ो की बाजीगरी ओर जुमलों के जाल से सत्ता पा तो ली टिकाए रखना मुश्किल है। समय बलवान है आज तुम सत्ता के नशे में मद मस्त हो ओर अवाम की पीड़ा से अनजान हो। जिस दिन समय ने पलटा मारा न सुर मिलेगा न ताल…सीना ठोककर ललकारता हूँ और धिक्कारता हूँ ऐसी कायर ओर कपटी सरकार को…जो बात करने के बजाय निहत्थे किसानों पर गोलियां बरसाती हो…

LEAVE A REPLY